HomeNationalक्यों ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन ने निजीकरण एजेंडे का किया जोरदार...

क्यों ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन ने निजीकरण एजेंडे का किया जोरदार विरोध ?

Published on

एआईपीईएफ के अध्यक्ष शैलेन्द्र दुबे ने कहा कि पिछले दस वर्षों के दौरान केंद्र सरकार ने पांच बार बिजली संशोधन विधेयक का मसौदा तैयार किया लेकिन लगातार दो लोकसभा कार्यकाल में सफल नहीं हो सकी। उन्होने कहा कि प्रतिस्पर्धी बोली के नाम पर लगभग हर दर पर ट्रांसमिशन का बड़े पैमाने पर निजीकरण चल रहा है।

जालंधर ,(Shah Times)।ऑल इंडिया पावर इंजीनियर्स फेडरेशन (AIPEF) की संघीय परिषद की बैठक में बिजली (संशोधन) नियमों के माध्यम से बिजली मंत्रालय के निजीकरण के एजेंडे का किया गया है।

एआईपीईएफ के अध्यक्ष शैलेन्द्र दुबे ने रविवार को कहा कि पिछले दस वर्षों के दौरान केंद्र सरकार ने पांच बार बिजली संशोधन विधेयक का मसौदा तैयार किया लेकिन लगातार दो लोकसभा कार्यकाल में सफल नहीं हो सकी। उन्होने कहा कि प्रतिस्पर्धी बोली के नाम पर लगभग हर दर पर ट्रांसमिशन का बड़े पैमाने पर निजीकरण चल रहा है।

बैठक में एआईपीईएफ के मुख्य संरक्षक पदमजीत सिंह ने ग्लोबल वार्मिंग के मद्देनजर फास्ट ब्रीडर रिएक्टरों और अधिक जल विद्युत उत्पादन परियोजनाओं की वकालत की। महासचिव रत्नाकर राव ने कहा कि बिजली इंजीनियर राजनीतिक नेताओं को निजीकरण के नुकसान के बारे में जानकारी देंगे।

 राज्य बिजली उपयोगिताओं में स्मार्ट मीटर की स्थापना बिजली क्षेत्र के निजीकरण का एक और तरीका है।संघीय परिषद की चेन्नई में आयोजित बैठक में पंजाब, जम्मू और कश्मीर, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, उड़ीसा, असम, गुजरात और तमिलनाडु सहित देश भर के 23 राज्य घटकों ने भाग लिया।

इस दौरान फेडरेशन के चुनाव में शैलेन्द्र दुबे को सर्वसम्मति से अध्यक्ष और पी रत्नाकर राव को लगातार तीसरी बार एआईपीईएफ का महासचिव चुना गया। वी के गुप्ता को फिर से फेडरेशन का प्रवक्ता बनाया गया है। 

उत्तराखंड के कार्तिक दुबे वरिष्ठ उपाध्यक्ष चुने गए। पंजाब के जितेंदर गर्ग और हरियाणा के विजेंदर लांबा को क्रमश: सचिव और संयुक्त सचिव बनाया गया।

 सुनील ग्रोवर और सत्या पॉल को संरक्षक बनाया गया।एआईपीईएफ ने संघीय परिषद में महिला इंजीनियरों को शामिल करने के लिए अपने संविधान में संशोधन किया। पश्चिम बंगाल के एर मौपाली मुखोपाध्याय को एआईपीईएफ का वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाया गया है।

Latest articles

लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 102 सीटों के लिए मतदान शुरू

लोक सभा चुनाव के पहले चरण में 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी)...

शराब माफि़याओं पर एक बार फि़र चला दून पुलिस का चाबुक

रायवाला पुलिस ने 23 पेटी विदेशी शराब का जखीरा किया बरामद देहरादून, मयूर गुप्ता (Shah...

Shah Times Delhi 19 April 24

Latest Update

लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 102 सीटों के लिए मतदान शुरू

लोक सभा चुनाव के पहले चरण में 21 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों (यूटी)...

शराब माफि़याओं पर एक बार फि़र चला दून पुलिस का चाबुक

रायवाला पुलिस ने 23 पेटी विदेशी शराब का जखीरा किया बरामद देहरादून, मयूर गुप्ता (Shah...

विधायक पंकज मलिक से थानाध्यक्ष की बदसलूकी पर क्या बोले हरेंद्र मलिक

मुजफ्फरनगर,(Shah Times)। मुजफ्फरनगर के तितावी क्षेत्र में एक शादी समारोह से लौट रहे चरथावल...

भाजपा की हार देश की प्रगति की गारंटी

भाजपा सरकारों ने किसान, नौजवान, जवान, बेटियों दलितों, पिछड़ों और पहलवानों सब का अपमान...

कार्तिक शिक्षण संस्थान द्वारा मुरादाबाद में मतदाता जागरूकता अभियान

मतदाता जागरूकता अभियान में संस्थान के परियोजना प्रबंधक अवधेश कुमार सिंह ने मतदाताओं को...

एसबीआई लाइफ ने लॉन्च किया आइडिएशनएक्स

अपनी तरह का अनोखा प्लेटफॉर्म, जिसका उद्देश्य देश भर के बिजनेस स्कूलों के युवाओं...

आलिया भट्ट ’टाइम मैगजीन’ की 100 सबसे प्रभावशाली हस्तियों में शामिल

आलिया भट्ट दुनिया की टॉप एक्ट्रेसेस में से एक हैं। वह एक दशक से...

मजबूत लोकतंत्र के निर्माण में भागीदार बने मतदान जरूर करें

आज़ादी से लेकर अब तक हमारा देश एक मजबूत लोकतंत्र रहा है,जिसमें जनता सर्वोपरि...

भीषण सड़क हादसे में एक ही परिवार के सात सदस्यों की मौत

राष्ट्रीय राजमार्ग पर बुधवार रात एक तेज रफ्तार कार एक निजी लक्जरी बस से...
error: Content is protected !!