Shah Times

HomeEditorialराजनीतिक लाभ से ऊपर उठकर देश हित में सोचें राजनीतिक दल

राजनीतिक लाभ से ऊपर उठकर देश हित में सोचें राजनीतिक दल

Published on

  • डॉ एमजे ख़ान

हमारे देश में चरमपंथ की चिंताजनक घटनाओं के बीच, नूंह (Nuh), गुरुग्राम (Gurugram) और पड़ोसी इलाकों में हाल ही में भड़के तनाव ने लोगों के दिमाग पर डर की छाया डाल दी है। इन चिंताओं को दूर करना और सहिष्णु, एकजुट और प्रगतिशील भारत के प्रति हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि करना जरूरी हो गया है। देश में समय-समय पर भड़कने वाली हिंसा और नफ़रत से प्रेरित अपराधों की घटनाओं को अब नज़र अंदाज़ नहीं किया जा सकता। चाहे वह मणिपुर में हिंसक संघर्ष हो या धर्मान्धता का शिकार आरपीएफ कांस्टेबल (RPF constable) का रेलगाड़ी में 3 मुसलमानों की भयावह हत्या, या फिर हरियाणा (Haryana) में हाल के दंगे। ये सब हमारे समाज के नाजुक ढांचे के बारे में आशंकाएं पैदा करने वाली घटनाएं हैं।

कोई भी राजनीतिक दर्शन जो चुनावी लाभ के लिए हिंसा भड़काने को एक व्यवहार्य रणनीति मानता है, वह इतिहास के गहन पाठों की उपेक्षा करता प्रतीत होता है। किसी देश के भीतर उग्रवाद का बढ़ना निश्चित रूप से उन्हीं लोगों के लिए हानिकारक परिणाम लेकर आता है, जिन्हें क्षण भर के लिए इससे लाभ हो सकता है। जब उग्रवाद किसी समुदाय में प्रवेश करता है, तो इससे समाज के भीतर ध्रुवीकरण और विभाजन होता है और अंततः पूरे देश को इसकी कीमत चुकानी पड़ती है। भारत अपने पड़ोसियों से पर्याप्त सबक सीख सकता है।

विभाजन गहराते हैं, और लोग दूसरों को “हम बनाम वे” के चश्मे से देखने के इच्छुक हो जाते हैं। लोकलुभावनवाद की आड़ में नफरत का हथियारीकरण एक चिंताजनक प्रवृत्ति है। नफरत फैलाने वाले भाषणों (Hate Speeches) से प्रेरित कार्रवाइयां कमजोर जनता को भड़काती हैं और प्रचलित सामाजिक मानदंडों को बाधित करती हैं। नफरत से प्रेरित हिंसा की ये दुखद घटनाएं दुर्भाग्य से सख्ती से हतोत्साहित होने के बजाय कुछ हद तक स्वीकार्य हो गई हैं। इस तरह के कार्य पीड़ा के बीज बोते हैं और एक विषाक्त वातावरण पैदा करते हैं जो अंततः समाज और राष्ट्र को नष्ट कर देता है।

दुर्भाग्य से, इतिहास उन व्यक्तियों, सामाजिक संगठनों और राजनीतिक समूहों से भरा पड़ा है, जो राष्ट्रवादी होने का दावा करते हुए देश को गर्त में पहुंचाने का काम किया। मोनू मानेसर (Monu Manesar) और बिट्टू बजरंगी (Bittu Bajrangi) जैसे छोटे अपराधियों का राजनीतिक समर्थन के तहत धार्मिक भावनाओं का शोषण कर के कुख्यात होना, हमारे सामने एक चेतावनी के रूप में है। धार्मिक रैलियों में खुलेआम अत्याधुनिक हथियार लहराना किसी भी धर्म में कोई स्थान या प्रासंगिकता नहीं होनी चाहिए। वास्तव में हाल के वर्षों में एक स्पष्ट प्रवृत्ति देखी जा सकती है। धार्मिक जुलूसों पर शरारती तत्वों और उग्रवादी संगठनों ने कब्जा कर लिया है‌। इनका धर्म या आध्यात्मिकता या देवत्व में दूर-दूर तक विश्वास नहीं है।

दैनिक शाह टाइम्स अपने शहर के ई-पेपर पढने के लिए लिंक पर क्लिक करें

इन जुलूसों का मुख्य चरित्र उन्माद फैलाना कर उकसावे की कार्रवाई करना, तलवारों का वितरण, स्वचालित हथियारों का लहराना और बेहद घृणित भाषण देना हैं। उनका एकमात्र उद्देश्य धार्मिक भावनाओं को भड़काकर अशांति फैलाना, दंगे कराना और धर्म के नाम पर लूटपाट और हत्याएं करना प्रतीत होता है। दुर्भाग्य से, धर्म के नाम पर अपराध के ऐसे अधिकांश कृत्यों में पुलिस या तो मूकदर्शक बनी रहती है या परोक्ष समर्थक बनी रहती है। राजनीतिक स्वामी उन्हें छूट प्रदान करते हैं और मुख्यधारा मीडिया का एक बड़ा वर्ग उनके समर्थन में झूठ को सच और सच तो झूठ करने पर उतर आता है। अवैध स्वचालित हथियार रखने वालों, उनके स्रोतों और किसी आतंकवादी संगठन से सांठगांठ पर न कोई सवाल उठाया जाता है और न उनके खिलाफ कार्रवाई होती है?

यह हमें उग्रवाद, कट्टरपंथ और नफरत भरे भाषणों के खिलाफ सतर्कता की तत्काल आवश्यकता की याद दिलाने के लिए पर्याप्त होना चाहिए, जो न केवल सार्वजनिक व्यवस्था को बाधित करने की क्षमता रखते हैं बल्कि आर्थिक प्रगति को भी पटरी से उतारने की क्षमता रखते हैं। इसके अलावा, यह पहचानना आवश्यक है कि उग्रवाद अकेला काम नहीं करता है। इसका प्रभाव सीमाओं से परे होता है, जिससे देश की अंतरराष्ट्रीय प्रतिष्ठा और राजनयिक संबंधों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। कट्टरपंथ और असहिष्णुता का उदय एक नकारात्मक छवि पेश करता है जो हमारी वैश्विक स्थिति को बाधित करता है। इसलिए, एक राष्ट्र के रूप में हमारी प्रगति समावेशिता, बहुलवाद और प्रत्येक नागरिक के लिए सम्मान की संस्कृति विकसित करने की हमारी क्षमता से जटिल रूप से जुड़ी हुई है।

न्याय, समावेशिता और एकता के प्रति हमारी प्रतिबद्धता न केवल अतीत की गलतियों को सुधारेगी बल्कि सभी नागरिकों के लिए एक सुरक्षित और अधिक समृद्ध कल का निर्माण भी करेगी। अन्यथा, आने वाली पीढ़ियों को हमारे आज के कार्यों या निष्क्रियताओं का भार उठाना पड़ेगा। राजनीतिक दलों को भी राजनीतिक लाभ से ऊपर उठकर देश के दीर्घकालिक हित के बारे में सोचना होगा। करोड़ो लोगों के लिए आशा की किरण के रूप में, हमें चुनौतियों से ऊपर उठना चाहिए और एक ऐसे राष्ट्र के चमकदार उदाहरण के रूप में खड़ा होना चाहिए जो अपने मतभेदों पर पनपता है, अपनी विविधताओं को अपनाता है, और एक सामंजस्यपूर्ण और समृद्ध भविष्य की ओर एक साथ आगे बढ़ता है।

#ShahTimes

Latest articles

सभी पोलिंग पार्टियों के पहुंचने पर आएगा अंतिम आंकड़ा

अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने शनिवार शाम दी जानकारी राज्य में मतदान प्रतिशत को...

Shah Times Lucknow 21April 24

Shah Times Delhi 21 April 24

Latest Update

सभी पोलिंग पार्टियों के पहुंचने पर आएगा अंतिम आंकड़ा

अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने शनिवार शाम दी जानकारी राज्य में मतदान प्रतिशत को...

लोकसभा 6 मुरादाबाद से भाजपा प्रत्याशी कुँवर सर्वेश सिंह के निधन की खबर से हर कोई स्तब्ध

मुरादाबाद,(Shah Times) । लोकसभा 6 मुरादाबाद से भारतीय जनता पार्टी से प्रत्याशी और पूर्व...

अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी का जवाब वोट से

नई दिल्ली/सफदर अली,(Shah Times)। आज रात 8 बजे दिल्ली में हैदराबाद सनशाइन और देल्ही...

यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटरमीडिएट एग्जाम में लड़कियों का दबदबा

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड एग्जाम के रिज़ल्ट...

अमेरिका ने पाकिस्तान को कथित आपूर्ति करने वाली तीन विदेशी संस्थाओं पर क्यों लगाया बैन ?

अमेरिका विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा कि यह प्रतिबंध बेलारूस स्थित...

सड़क हादसे में गठबंधन प्रत्याशी चंदन चौहान के तीन समर्थकों की मौत

मरने वालों में बीजेपी आरएलडी गठबंधन प्रत्याशी चंदन चौहान का व्यक्तिगत फोटोग्राफर बताया जा...

पुलिस ने राष्ट्रीय किसान यूनियन नेताओं को किया घर में हाउस अरेस्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ज्ञापन सौंपने की घोषणा की थी गजरौला/अमरोहा, चेतन रामकिशन (Shah Times)।...

सिंघु बॉर्डर से हटाए जा रहे सीमेंट बेरिकेडस 

हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पिछले काफी समय से किसान आंदोलन पर बैठे हैं। नई...

गंगा में नहाते हुए डूबे दो युवक

मुनि की रेती क्षेत्र कौड़ियाला और पांडव पत्थर पर हादसाएसडीआरएफ की सर्चिंग में नहीं...
error: Content is protected !!