वेंकटेश्वरा के छात्रों ने केंसर के प्रति लोगो को किया जागरूक

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

-विश्व कैंसर दिवस पर वेंक्टेश्वरा में ’’कैन्सर जागरुकता रैली’’ एवं ’’कैन्सर से बचाव, रोकथाम व प्रभावी उपचार’’ विषय पर सेमीनार

-वेंक्टेश्वरा के छात्र-छात्राऐ, मेडिकल एंव पैरामेडिकल स्टॉफ पूरे वर्ष  कैंसर के प्रति लोगां को करेंगे जागरुक - डॉ0 सुधीर गिरि, चेयरमैन वेंक्टेश्वरा समूह

मेरठ। आज ’’विश्व कैंसर दिवस’’ पर दिल्ली रूडकी बाईपास स्थित वेंक्टेश्वरा ग्रुप ऑफ इन्स्टीट्यूशन्स एवं वेंक्टेश्वरा मेडिकल कॉलेज के संयुक्त तत्वाधान में कैंसर जैसी भयावह जानलेवा बिमारी के प्रति लोगो को जागरुक करने के उददेश्य से ’’कैंसर जागरुक रैली’’ एवं ’’कैंसर से बचाव, व इसके प्रभावी उपचार’’ पर एकदिवसीय सेमीनार का आयोजन किया गया, जिसमें देश के जाने माने चिकित्सको ने विभिन्न प्रकार के कैंसर, उनके लक्षण, रोकथाम/बचाव एवं प्रभावी उपचार के बारे में विस्तार से समझाया।
वेंक्टेश्वरा संस्थान के डॉ0 सी0वी0 रमन केन्द्रीय सभागार में कैंसर से बचाव, रोकथाम एवं प्रभावी उपचार’’ विषय पर आयोजित एकदिवसीय सेमीनार का शुभारम्भ वेक्टेश्वरा समूह के चेयरमैन डॉ0 सुधीर गिरि, प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी, मुख्य वक्ता एवं विख्यात चिकित्सक, डॉ0 एस0सी0 गुप्ता एवं कुलपति डॉ0 पी0के0 भारती ने सरस्वती माँ की प्रतिमा के सन्मुख दीप प्रज्जवलित करके किया।
अपने सम्बोधन में समूह चेयरमैन डॉ0 सुधीर गिरि ने कहा कि इस ’’कोरोना काल’’ में समूचे विश्व की चिकित्सा व्यवस्था ’’कोरोना के उपचार एवं टीकाकरण प्रबन्धन में सिमट कर रह गयी, लेकिन भारत में कोराना उपचार के सफल प्रबन्धन के साथ-2 दूसरी जानलेवा बिमारियों के प्रभावी उपचार एवं रोकथाम के लिए भी लगातार व्यवस्थाऐ जारी रही, जिससे पूरे विश्व में भारत एक मजबूत लीडर के रुप में स्थापित हुआ है। पूरे देश के साथ-2 वेंक्टेश्वरा समूह ’’जानलेवा कैंसर’’ के विरूद्ध इसके बचाव व रोकथाम के लिए ’’जनजागरण अभियान’’ चलायेगा।
मुख्यवक्ता एवं वरिष्ठ चिकित्सक डॉ0 एस0सी0 गुप्ता ने बताया कि विश्व में सैकडो प्रकार के कैंसर में से स्तन कैंसर, सर्वाइकल कैंसर, ब्लड कैंसर, फैफडो का कैंसर, गर्भाशय कैंसर, मुख एवं गले का कैंसर सबसे प्रमुख है। इसके मुख्य लक्षणो में शरीर के किसी हिस्से में गाँठ का होना, माँसपेशियों एवं जोडो में सूजन, थकान, कमजोरी आदि होते है। कैंसर की मुख्य वजह लम्बे समय तक तम्बाकू या गुटका प्रयोग, सिगरेट एवं मदिरापान है। इसके अलावा खराब पोषण एवं कुछ आनुवांशिक दोष भी कैंसर कारक होते है। यदि शुरुवाती दौर मे कैंसर का पता चल जाय तो प्रतिवर्ष 20 लाख मौतो को रोका जा सकता है। प्रतिकुलाधिपति डॉ0 राजीव त्यागी ने कहा कि सरकार के साथ-2 निजी क्षेत्र के चिकित्सक पैरामेडिकल्स एवं नर्सिंग प्रोफेशनल्स भी इस महाअभियान का हिस्सा बन जाय तो कैंसर को काफी हद तक कन्ट्रोल किया जा सकता है। सेमीनार को कुलपति डॉ0 पी0के0 भारती, वरिष्ठ चिकित्सक डॉ0 अतुल वर्मा, डॉ0 ऐना ब्राउन ने भी सम्बोधित किया। इस अवसर पर कुलसचिव डॉ0 पीयूष पाण्डे, परिसर निदेशक डॉ0 प्रभात श्रीवास्तव, उपनिदेशक दूरस्थ शिक्षा अलका सिंह, रजिस्ट्रार विकास कौशिक, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ0 जे0एन0 राव, मोहित शर्मा, अरुण गोस्वामी, अंजलि शर्मा, रीना जोशी, रजनी, डॉ0 दीपाली, डॉ0 संजीव, मीडिया प्रभारी विश्वास राणा आदि लोग उपस्थित रहे।

Shah Times is a Daily Newspaper & Website brings the Latest News & Breaking News Headlines from India & around the World. Read Latest News Today on Sports, Business, Health & Fitness, Bollywood & Entertainment, Blogs & Opinions from leading columnists.
View all posts

Leave a Reply