सीएम योगी के नेतृत्व में द्रौपदी मुर्मू की जीत सुनिश्चित करेगा यूपी!

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

 

यूपी में विधायकों के वोट का मूल्य 208, सांसदों के वोट का मूल्य 700

विपक्ष के विरोध के बाद भी यूपी में द्रोपदी मुर्मू को 1,19,084 मत मूल्य की
बढ़त मिलगी

शाह टाइम्स ब्यूरो
लखनऊ।देश की राजनीतिक तस्वीर का स्वरूप तय करने वाला उत्तर प्रदेश (यूपी) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में राष्ट्रपति के चुनाव में भी अहम भूमिका निभाएगा. राष्ट्रपति चुनाव को लेकर विपक्ष की गोलबंदी यूपी में कारगर साबित नहीं होगी. और राष्ट्रपति के पद के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को जिताने के लिए यूपी से ही सबसे अधिक मत (वोट) प्राप्त होंगे. इसकी वजह है, देश भर के मतदाता जनप्र्त्यनिधियों के कुल मत 10,86,431 का 14.86 प्रतिशत हिस्सा यूपी के पास होना.इस कारण बहुजन समाज पार्टी (बसपा), समाजवादी पार्टी (सपा) और  कांग्रेस के विरोध के बाद भी द्रोपदी मुर्मू को 1,19,084 मत मूल्य की बढ़त यूपी से हासिल हो जाएगा, जो राजग उम्मीदवार की जीत का आधार बनेगी।
अगले माह होने वाले राष्ट्रपति चुनाव को लेकर अब पूरी तस्वीर साफ हो गई है. राजग ने ओडिशा की आदिवासी नेता और झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया है. जबकि विपक्ष ने पूर्व वित्तमंत्री और पुराने भाजपाई नेता यशवंत सिन्हा पर दांव खेला है. अब राष्ट्रपति चुनावों को लेकर राज्यों से मिलने वाले वोटों के गणित को देखें तो द्रौपदी मुर्मू के सामने यशवंत सिन्हा कमजोर दिखाई दे रहे हैं. और वोट पड़ने के पहले ही चुनावी गणित के लिहाज से वह रेस से बाहर होते दिख रहे हैं।

 

 

भाजपा के वरिष्ठ नेता विजय पाठक के अनुसार, राजग उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू की जीत तय है. पाठक इसका गणित समझाते हैं, उनके मुताबिक़ राष्ट्रपति चुनाव में सभी राज्यों के लोकसभा और राज्यसभा सदस्यों के वोट का मूल्य बराबर है, जो कि 700 है. वहीं विधायकों के वोट का मूल्य आबादी की गणना के अनुसार तय होता है. इस गणित के आधार पर  राजग के पास अभी कुल 5,26,420 मत हैं. राष्ट्रपति चुनाव जीतने के लिए मुर्मू को 5,39,420 मतों की जरूरत है. अगर चुनावी समीकरणों को देखें तो ओडिशा से आने के कारण सीधे तौर पर मुर्मू को बीजू जनता दल (बीजद) का समर्थन मिल रहा है. यानी बीजद के 31,000 मत भी उनके पक्ष में पड़ेंगे. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक पहले ही द्रौपदी मुर्मू को समर्थन दे चुके हैं. इसके अलावा अगर वाईएसआर कांग्रेस भी साथ आती है तो उसके भी 43,000 मत उनके साथ होंगे. इसके अलावा आदिवासी के नाम पर राजनीति करने वाली झारखंड मुक्ति मोर्चा के लिए मुर्मू का विरोध करना मुश्किल है. झामुमो दबाव में आई तो मुर्मू  को करीब 20000 वोट और मिल जाएंगे।

 

 

अब आते हैं यूपी पर इस राज्य के विधायकों के वोट का मूल्य 208 है. यहां 80 लोकसभा सदस्य, 31 राज्यसभा सदस्य और 403 विधायक हैं. इस तरह लोकसभा सदस्यों के मतों का कुल मूल्य 56,000 होता है. लोकसभा सदस्यों में सर्वाधिक 62 सांसद भाजपा के हैं. बसपा के पास दस, सपा के पास तीन और कांग्रेस के पास सिर्फ एक सांसद है. इसी प्रकार राज्यसभा की 31 सीटों का कुल मूल्य 21,700 होता है. जिसमें 25 सीटों के साथ भाजपा सबसे आगे है. सपा के पास पांच और बसपा के पास एक सांसद है. इसी तरह से विधायकों के वोटों की संख्या भी सबसे अधिक भाजपा के पास है. यूपी के 403 विधायकों के वोट का मूल्य 83,824 होता है. इसमें से भाजपा गठबंधन के 273 वोट का मूल्य  56,784 होता है. 125 विधायकों वाले सपा गठबंधन के मतों का मूल्य 26,000 है. कांग्रेस और जनसत्ता के दो दो विधायक हैं और बसपा का एक विधायक हैं. इस आधार पर मतो का गणित देखे तो द्रौपदी मुर्मू को यूपी  से 1,19,084 मत  मूल्य की बढ़त मिलेगी. जबकि सपा और कांग्रेस के 32,716 मत मूल्य जरुर विपक्ष के प्रत्याशी यशवंत सिन्हा को मिलेंगे. इस वोट गणित के आधार पर यूपी राजग उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू की जीत को सुनिश्चित करेगा।

I think all aspiring and professional writers out there will agree when I say that ‘We are never fully satisfied with our work. We always feel that we can do better and that our best piece is yet to be written’.
View all posts

1 Comments

Ytfnjz Ytfnjz Tuesday, June 2022, 11:39:34

order generic imitrex 50mg - sumatriptan 25mg generic imitrex online


Leave a Reply