स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री ने दिए दो नए नारे

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

नई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वतंत्रता दिवस पर दो नए नारे दिए । इनमें से एक पूरे नारे का विस्तार किया गया है जबकि आठ माह से अधिक से आंदोलन कर रहे किसानों को खुश करने के लिए “छोटा किसान बने देश की शान” का नारा पहली बार दिया गया है ।

 

 मोदी ने लालकिला के प्राचीर से 75 वें स्वाधीनता दिवस समारोह को संबोधित करते हुए कहा, “अमृत काल 25 वर्ष का है। लेकिन हमें अपने लक्ष्‍यों की प्राप्‍ति के लिये इतना लम्‍बा इंतजार भी नहीं करना है। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्‍वास और अब सबका प्रयास हमारे हर लक्ष्‍यों की प्राप्‍ति के लिये बहुत महत्‍वपूर्ण है। इससे पूर्व उन्होंने सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्‍वास का नारा दिया था।”


उन्होंने कहा , “आज लाल किले की प्राचीर से आह्वान कर रहा हूं। सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्‍वास और अब सबका प्रयास हमारे हर लक्ष्‍यों की प्राप्‍ति के लिये बहुत महत्‍वपूर्ण है। बीते सात वर्षों में शुरू हुई अनेक योजनाओं का लाभ करोड़ों गरीबों को उनके घर तक पहुंचा है। उज्ज्वला से लेकर आयुष्‍मान भारत की ताकत आज देश का हर गरीब जानता है। आज सरकारी योजनाओं की गति बढ़ी है। वह निर्धारित लक्ष्‍यों को प्राप्‍त कर रही है। पहले की तुलना में हम बहुत तेजी से बहुत आगे बढ़े हैं। लेकिन सिर्फ बात यहां पूरी नहीं होती है। अब हमें सैचुरेशन तक जाना है, पूर्णता तक जाना है।”
 

मोदी ने कहा , “शत-प्रतिशत गांवों में सड़कें हों, शत-प्रतिशत परिवारों के बैंक अकाउंट हो, शत-प्रतिशत लाभार्थियों को आयुष्‍मान भारत का कार्ड हो, शत-प्रतिशत पात्र व्‍यक्‍तियों को उज्ज्वला योजना और गैस कनेक्‍शन हों। सरकार की बीमा योजना हो, पेंशन योजना हो, आवास योजना से हमें हर उस व्‍यक्‍ति को जोड़ना है जो उसके हकदार हैं। शत-प्रतिशत का मूड बनाकर के चलना है। आज तक हमारे यहां कभी उन साथियों के बारे में नहीं सोचा गया जो रेहड़ी लगाते हैं। पटरी पर बैठकर, फुटपाथ पर बैठकर सामान बेचते हैं, ठेला चलाते हैं। अब इन साथियों को स्‍वनिधि योजना के जरिए बैंकिंग व्‍यवस्‍था से जोड़ा जा रहा है।”


उन्होंने कहा कि जैसे हमने बिजली शत-प्रतिशत घरों तक पहुंचाई है, जैसे हमने शत प्रतिशत घरों में शौचालय के निर्माण का प्रामाणिक प्रयास किया, वैसे ही हमे अब योजनाओं के सैचुरेशन का लक्ष्य लेकर के आगे बढ़ना है और इसके लिए हमे समय सीमा बहुत दूर नहीं रखनी है। हमें कुछ ही वर्षो में अपने संकल्पों को साकार करना है।


प्रधानमंत्री ने कहा , “कृषि क्षेत्र की एक बड़ी चुनौती की भी ओर ध्‍यान देना है। ये चुनौती है, गांवों के लोगों के पास कम होती जमीन, बढ़ती हुई आबादी के साथ... परिवार में जो बंटवारे हो रहे हैं उसकी वजह से किसानों की जमीन छोटी, छोटी, छोटी से छोटी होती जा रही है। देश के 80 प्रतिशत से ज्‍यादा किसान ऐसे हैं जिनके पास दो हेक्‍टयर से भी कम जमीन है। अगर हम देखे तो 100 में से 80 किसान उनके पास दो हेक्‍टयर से भी कम जमीन यानी देश का किसान एक प्रकार से छोटा किसान है। पहले जो देश में नीतियां बनीं उनमें इन छोटे किसानों को जितनी प्राथमिकता देनी चाहिए थी, उन पर जितना ध्‍यान केंद्रित करना चाहिए था वो रह गया। अब देश में इन्‍हीं छोटे किसानों को ध्‍यान में रखते हुए कृषि सुधार किए जा रहे हैं, निर्णय लिए जा रहे हैं।”


 मोदी ने कहा , “हर छोटे किसानों के छोटे-छोटे खर्च को ध्‍यान में रखते हुए पीएम किसान सम्‍मान निधि योजना चलाई जा रही है। दस करोड़ से अधिक किसान परिवारों के बैंक खातों में अब-तक डेढ़ लाख करोड़ से ज्‍यादा रकम सीधे उनके खातों में जमा करा दी गई है। छोटा किसान अब हमारे लिए हमारा मंत्र है, हमारा संकल्‍प है। छोटा किसान बने देश की शान.... छोटा किसान बने देश की शान। ये हमारा सपना है। आने वाले वर्षों में हमें देश के छोटे किसानों की सामूहिक शक्ति को और बढ़ाना होगा। नई सुविधाएं देनी होंगी। आज देश के 70 से ज्‍यादा रेल रूटों पर, किसान रेल चल रही है।”

Shah Times is a Daily Newspaper & Website brings the Latest News & Breaking News Headlines from India & around the World. Read Latest News Today on Sports, Business, Health & Fitness, Bollywood & Entertainment, Blogs & Opinions from leading columnists.
View all posts

Leave a Reply