जमीयत उलमा ए हिन्द मुजफ्फरनगर की बैठक तावली में संपन्न

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

मुजफ्फरनगरजमीयत उलमा मु० नगर की एक बैठक दारुल उलूम हुसैनिया तावली में समपन्न हुई बैठक की अध्यक्षता जिलाअध्यक्ष मुफ्ती बिनयामीन ने की व संचालन जिला महासचिव कारी जाकिर हुसैन ने किया। 

 

 

मुख्य अतिथि के रुप में जमीयत उलमा-ए-हिन्द के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन एवं मुफ्ती मौ० राशिद नायब मोहतमिम दारुलउलूम देवबन्द रहे, इस अवसर पर सभी उलमा-ए किराम ने सर्वसम्मती से उदयपुर में हुई कन्हेय्या लाल की निर्मम हत्या पर गहरा शोक व्यक्त कर निंदा की व प्रस्ताव पास किया और कहा कि इस्लाम धर्म में इस तरह के घृणित कृत्य की इजाज़त नहीं। 

 

 

राष्ट्रीय महासचिव मौलाना हकीमुद्दीन ने कहा उदयुपर घटना की हम भरपूर निंदा करते हैं लेकिन हम यह भी कहना चाहेगें कि अगर वक्त रहते गुस्ताखे रसूल की गिरफ्तारी हो जाती तो शायद भारत की जनता को यह दिन न देखना पड़ता। भारत सरकार जागे, देश में नफरत फैलाने वालों और हत्यारों के • खिलाफ सख्त से सख्त कानूनी कार्यवाही करे, सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भी नुपुर शर्मा की गिरफ्तारी न होना आश्चर्य जनक है। उन्होंने कहा कि देश और प्रदेश की सरकारें संविधान के मुताबिक कार्य करें।

 

इस अवसर पर आगामी ईदुल अज़हा कावड़ यात्रा पर चर्चा करते हुए जमियत उल्मा के प्रदेश सेक्रेट्री कारी जाकिर हुसैन कासमी ने कहा कि 10 जुलाई को ईद और 14 जुलाई से कावड़ यात्रा है। दोनों ही अति महत्वपूर्ण है। इन त्यौहारों के अवसर पर धैर्य के साथ आपसी सौहार्द कायम रखते हुए शान्ति व्यवस्था बनये रखना हम सब की जिम्मेदारी है। त्यौहारों के इस अवसर पर स्वच्छता का भी हम सभी नागरिकों को विशेष ध्यान रखना है। कारी जाकिर हुसैन ने भी गुस्ताख़े रसूल और उदयपुर कांड के दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही की मांग की। वहीं उन्होंने बताया कि 06 जून से 31 जुलाई तक पैगम्बर ए इस्लाम की जीवनी पर प्रकाश कर इनकी शिषाओं से लोगों को अवगत कराया जायगा। मुफ्ती शाशिद आज़मी की दुआ पर बैठक सम्पन्न हुई।

 

मौलाना मआज हसन, मुफ्ती इकबाल, मौलाना अरशद, मौलान इकबाल, मुफ्ती आदिल, कारी अब्दुल माजिद, मुफ्ती अब्दुस्समद, कारी जाफर, मौलाना अरशद, हाफ़िज़ इकराम, मुफ्ती फाजिल, मौलान आस मौहम्मद, मौलाना खालिद, मौलाना गुलफाम, कारी नौशाद, कासी सलीम, मौलाना अरशद जड़ौदा, कारी आदिल, मौलाना मौ० अहमद, मौलाना रज़िउर्रहमान, मौ० दिलनवाज, मौ० शाहवेज, कारी लईक, कारी शाहनवाज, मौलाना अरशद नसीरपुर, डा० अखलाकऋ, कारी नूर मौहम्मद, कारी रय्यान, मौलाना शब्बरी आदि।

~मो० सुहैल 


I think all aspiring and professional writers out there will agree when I say that ‘We are never fully satisfied with our work. We always feel that we can do better and that our best piece is yet to be written’.
View all posts

Leave a Reply