कोरोना से लड़ने के लिए कुंवर दानिश ने मोदी से मांगी मदद

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

अमरोहा  बहुजन समाज पार्टी के नेता और सांसद कुंवर दानिश अली ने अपने संसदीय क्षेत्र अमरोहा में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अवगत कराते हुए मदद का आग्रह किया है।

 

उत्तर प्रदेश के अमरोहा से लोकसभा सांसद दानिश अली ने इस सम्बंध में प्रधानमंत्री को आज एक पत्र लिखा है। उन्होंने मोदी का ध्यान अपने संसदीय क्षेत्र अमरोहा में कोरोना वायरस से उत्पन्न अत्यंत गंभीर स्तिथि की ओर आकर्षित कराते हुए त्वरित कार्रवाई और मदद की मांग की है। 

Wrote a letter to PM @narendramodi ji urging him to decentralise responsibility of providing urgent healthcare to #COVID victims. Govt must release the suspended funds under #MPLADS to all MPs so that they can save many precious lives in their constituencies.#SabkaSathSabkaIlaj pic.twitter.com/Spbr5n1aED

— Kunwar Danish Ali (@KDanishAli) May 4, 2021

 

अमरोहा लोक सभा क्षेत्र की जनता कोविद-19 महामारी की भारी चपेट में है। यह बीमारी गांव गांव में फैल गयी है किन्तु इस बीमारी से निपटने के लिए आवश्यक दवाएं, अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन एवं अन्य चिकित्सा सुविधाओं की भारी कमी है। चिकित्सा सुविधाओं का भयंकर अभाव है।

 

उन्होंने कहा कि ऐसे समय में क्षेत्र का प्रतिनिधि होने के नाते जनता की पीड़ा देख कर वह बहुत दुखी हैं। जिला प्रशासन उनके निर्वाचन क्षेत्र के लोगों को राहत देने एवं उनकी जान बचाने में अपनी लाचारी व्यक्त कर रहा है।

 

बसपा सांसद ने पत्र में कहा कि इस संकट-काल में, मैं आप को बताना चाहता हूँ कि 2020 में देश में कोरोना महामारी की पहली वेव के दौरान मैंने भी अपना एक महीने का वेतन पीएम केयर्स फंड को दान किया था।केंद्र सरकार के निर्णय अनुसार, एमपीलैड योजना के तहत वर्ष 2020-21 और 2021-22 से संबंधित धनराशि पर अमरोहा सहित सम्पूर्ण भारत में कोविड-19 से लड़ने व चिकित्सा सुविधाएँ प्रदान करने के उद्देश्य से रोक लगा दी गई थी।

 

उन्होंने कहा कि उनके संसदीय क्षेत्र में पीएम केयर्स या एमपीलैड योजना की रुकी हुई धनराशि से आज तक कोई उल्लेखनीय चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं कराई गई है। 

 

इस वजह से, मेरे निर्वाचन क्षेत्र के लोग महामारी के इस संकट में बड़ी कठिनाइयों का सामना कर रहे हैं और बुनियादी चिकित्सा सुविधाओं की उपलब्धता नहीं होने के कारण असमय मौत के मुंह में जा रहे हैं।

 

उन्होंने कहा कि कोविड की दूसरी लहर से उत्पन्न भयावह स्थिति के मद्देनजर, अपनी जनता के प्रतिनिधि के रूप में, मैं आपसे अनुरोध करता हूं कि एमपीलैड योजना के तहत दो साल (2020-21 और 2021-22) के लिए जो धनराशि रोकी गई है, उसे तुरंत देश के तमाम सांसदों को जारी किया जाए। 

 

ताकि मैं और अन्य सभी संसद सदस्य अपने संसदीय क्षेत्रों में ऑक्सीजन संयंत्र लगाकर और पीड़ितों के लिए राहत का इंतेज़ाम कर के और अन्य सभी ज़रूरी सुविधाएं उपलब्ध करा कर उनकी जान बचाने का प्रयास कर सके। 

 

इस संकट की घड़ी में स्वास्थ्य सेवा प्रदान करने की ज़िम्मेदारी का विकेंद्रीकरण बहुत ज़रूरी है। सभी सांसद और अन्य जन प्रतिनिधि जो अपने क्षेत्र को बखूबी जानते हैं, उन्हें अपने क्षेत्र की जनता को राहत पहुंचाने में सक्षम बनाने में एमपीलैड का फण्ड उनके हवाले करना एक अत्यंत आवश्यक कदम है।

I think all aspiring and professional writers out there will agree when I say that ‘We are never fully satisfied with our work. We always feel that we can do better and that our best piece is yet to be written’.
View all posts

Leave a Reply