यूपी विधानसभा चुनाव में बीजेपी को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा : सत्यपाल मलिक

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

झुंझुनूं   मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने केन्द्र सरकार पर किसानों की मांगों पर सुनवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुये केन्द्रीय मंत्री अजय मिश्रा से इस्तीफा लेने की मांग करने के साथ कहा है कि जरूरत पडने पर वह अपना पद छोड सकते है।


 एक कार्यक्रम में भाग लेने झुंझुनू आये श्री मलिक ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि किसान आंदोलन के मुद्दे पर केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि शीघ्र ही किसानों की जायज मांगे नहीं मानी गई तो आने वाला समय केंद्र की मोदी सरकार के लिए मुश्किलों भरा होगा तथा केन्द्र में सरकार नहीं बनेगी।

 


 मलिक ने अपने तीखे तेवर दिखाते हुए मोदी सरकार को चुनौति देते हुये कहा कि किसान देश का अन्नदाता है उनकी अनदेखी करके कोई भी सरकार अधिक समय तक शासन नहीं चला सकती है। उन्होंने कहा कि जिस सरकार ने भी किसानों का दमन करना चाहा है उसको पराजय का मुंह देखना पड़ा है। यदि केंद्र की मोदी सरकार भी समय रहते किसानों की सुध नहीं लेगी तो उसका भी अगली बार चुनाव जीतना मुश्किल हो जाएगा।


 मलिक ने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर किसानों की समस्या के समाधान के लिए चर्चा कर चुके हैं लेकिन अभी तक उसका कोई नतीजा नहीं निकला है। एक सवाल के जवाब में श्री मलिक ने कहा कि प्रधानमंत्री के इर्द-गिर्द जो सलाहकार तैनात हैं वह उन तक सही जानकारी नहीं पहुंचा कर उन को गुमराह कर रहे हैं। पिछले 10 माह से देश का किसान सड़कों पर बैठ कर धरना दे रहा है। जबकि सरकार यदि सही मनसे उनकी समस्या को सुलझाने का प्रयास करें तो चुटकी बजाते ही समस्या का समाधान हो सकता है।

यदि सरकार किसानों की फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी दे वह कानून बना दे तो स्वतः ही किसान आंदोलन समाप्त हो जाएगा। मगर केंद्र सरकार के सलाहकार किसी भी स्थिति में ऐसा नहीं होने देंगे।


 मलिक ने कहा कि यदि केंद्र सरकार मुझे किसानों से बातचीत करने के लिए मध्यस्थ बनाए तो मैं किसानों का आंदोलन चुटकी बजाते ही समाप्त करवा सकता हूं। किसान आंदोलनकारियों ने मुझे कहा है कि आप जो भी फैसला करोगे वह हमें मंजूर है, मगर सरकार की तरफ से मुझे एक बार भी मध्यस्था के लिए नहीं कहा गया है। उन्होंने कहा कि देश के किसानों की आर्थिक हालत बहुत खराब है। अनाज की पैदावार पर लागत बढ़ गई है जबकि फसल की कीमती उसके अनुपात में नहीं बढ़ पाई है इससे किसानों की कमर टूट गई है।


 मलिक ने कहा कि केंद्र सरकार को लखीमपुर खीरी की घटना के तत्काल बाद ही केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी को बर्खास्त किया जाना चाहिए था। उन्होने कहा कि अजय मिश्र जैसे व्यक्ति को केंद्र में गृह राज्य मंत्री जैसे महत्वपूर्ण पद पर नियुक्त किया जाना ही गलत था। ऊपर से उन्हें अभी तक पद से भी नहीं हटाया गया है। उन्होंने कहा कि आने वाला विधानसभा चुनाव में भाजपा को उत्तरप्रदेश में भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। मेरठ संभाग में तो भाजपा के किसी भी नेता को घुसने ही नहीं दिया जा रहा है चुनाव जीतना तो दूर की बात है। किसान आंदोलन का खामियाजा केंद्र व राज्य सरकार को उठाना पड़ेगा।


एक सवाल के जवाब में श्री मलिक ने कहा कि जब वह जम्मू कश्मीर का उपराज्यपाल थे तब वहां कानून व्यवस्था की स्थिति इतनी सुदृढ़ थी कि आंतकवादी श्रीनगर में घुसने की भी नहीं सोच सकते थे। जबकि आज स्थिति बहुत खराब हो रही है। घाटी में आंतकवाद की घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि हुई है जिसके लिए वहां का स्थानीय प्रशासन पूरी तरह जिम्मेदार है। उन्होंने कहा कि सिख कौम एक बहादुर कौम है। सिक्के बिरादरी कि राष्ट्र भक्ति पर अंगुली उठाना सरासर गलत है। सिखों ने मातृभूमि की रक्षा के लिए सबसे अधिक बलिदान दिया है।

Shah Times is a Daily Newspaper & Website brings the Latest News & Breaking News Headlines from India & around the World. Read Latest News Today on Sports, Business, Health & Fitness, Bollywood & Entertainment, Blogs & Opinions from leading columnists.
View all posts

Leave a Reply

image