उत्तर प्रदेश में भारी बारिश ने बरपाया कहर, 38 लोगों की मौत

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

लखनऊ   उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ सहित वाराणसी, गोरखपुर, अयोध्या, रायबरेली, बाराबंकी सहित कई जिलों में तेज बारिश हो रही है. मौसम विभाग ने पहले ही गुरुवार 16 सितम्बर को पूर्वी उत्तर प्रदेश में भारी बारिश होने का अलर्ट जारी किया था. राज्य में 17 व 18 सितम्बर को कहीं हल्की से सामान्य तो कहीं बौछारें पड़ने के आसार जताए गए।

 

यूपी में बीते 24 घंटे में जोरदार बारिश हुई है. इस दौरान खासतौर पर पूर्वी हिस्से में मूसलाधार बारिश (भ्मंअल त्ंपद) हुई है. कई शहरों में जल भराव हो गया है. साथ ही तेज बारिश के कारण हुए हादसों में कम से कम 38 लोगों की मौत की खबर है. राज्य में मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है. अभी भी कई जिलों से ऐसी सूचनाएं आ रही हैं।

 

सीएम योगी ने भारी बारिश,अव्यवस्था के मद्देनजरआदेश जारी किए हैं. नगर निकाय और पंचायती राज के सभी अधिकारी और कर्मी फिल्ड में उतर कर रिकॉर्ड तोड़ बारिश के कारण हुए नुकसान का जायजा लें और लोगों को समुचित राहत पहुंचाएं. सीएम ने स्वास्थ्य विभाग और नगर निकाय को यह निर्देश भी दिया है कि जलजमाव के कारण कोई रोग ना फैले इसके लिए यथोचित उपाय करें। 

 

अयोध्या में 24 घंटे की बारिश में शहर के अंदर भारी जलभराव  हो गया है. जलभराव की वजह से लोग अपने घरों में बंद हैं. हनुमानगढ़ी के नजदीक रेलवे स्टेशन मार्ग जलवानपुर में दर्जनों घरों में पानी घुस गया है. घरों के अंदर 5 फिट तक पानी भर गया है. अयोध्या रेलवे स्टेशन में भी बरसात का पानी भरा हुआ है. महापौर ऋषिकेश उपाध्याय ने जलभराव स्थलों का निरीक्षण किया. डीएम अनुज कुमार झा ने भी स्थलीय निरीक्षण किया और,घरों में घुसे पानी को हटाए जाने के निर्देश दिए ।

भारी बारिश से कच्चा मकान गिर गया. अलग-अलग थाना क्षेत्रों में मकान गिरे. दीवार के नीचे दबकर एक किशोरी और एक वृद्ध महिला की मौत  की खबर है. ये घटना कोतवाली अकबरपुर के बनगांव टेडवा व जलालपुर थानाक्षेत्र के करीमपुर नगपुर की है. सूचना पर पहुंची पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

लगातार 24 घंटे से अधिक बारिश होने के बाद राजधानी लखनऊ में अब जलभराव की एक बड़ी समस्या सामने आई है. लखनऊ के कई क्षेत्र ऐसे है जहां पर अभी भी जलभराव की समस्या बनी हुई है इसको लेकर के नगर निगम के द्वारा प्रयास किए जा रहे हैं. लेकिन अभी भी राजधानी के पॉश इलाकों में जलभराव बना हुआ है. जनेश्वर मिश्र के ठीक सामने पुल के नीचे एक बड़ा क्षेत्र है जहां पर जलभराव की समस्या है और वाहनों को वहां से आवाजाही में तमाम दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

रायबरेली की यह खबर चैंकाने वाली है।यहां तकरीबन तीन हजार की आबादी वाला एक इलाका ऐसा है जहां लोग कार या बाइक नहीं बल्कि खरीदना चाहते हैं नाव।एक दो लोगों ने खरीद भी लिया है।राजधानी लखनऊ से सटे इस जिले में आइये जानते हैं वह कौन लोग हैं जिनकी इच्छा है नाव खरीदने की।

लखनऊ प्रयागराज रेलमार्ग के किनारे बसे इस इलाके में ज्यादातर गरीब वर्ग के परिवार रहते हैं. यहां बारिश के दिनों में इलाके का बड़ा हिस्सा टापू में तब्दील हो जाता है. यही वजह है कि बरसात में यहां न तो पैदल और न ही किसी वाहन के जरिए घर पहुंचा जा सकता है. इन हालात में घरों से निकलने का एकमात्र साधन नाव है.यही वजह है कि यहां के कई परिवार ऐसे हैं जो कार या बाइक की जगह नाव खरीदना चाहते हैं. यहां के रहने वाले लोग कहते हैं कि यह समस्या छह साल पुरानी है।जिलाधिकारी से लेकर नगर निगम तक के चक्कर लगाए लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ. बारिश के दिनों में फिलहाल पड़ोस की एक डोमेस्टिक नाव और दूसरी व्यावसायिक नाव ही बाहर की दुनिया से संपर्क का साधन है।

बाराबंकी जिले में बारिश के चलते शहर से लेकर गांव तक बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. खेत-खलिहान, तालाब, गलियां, ऑफिस सब बारिश के पानी से लबालब हैं. लोगों के घरों तक पानी भर गया है. जलनिकासी के इंतजाम नाकाफी साबित हुए हैं. बारिश के चलते राहत और बचाव के कार्य करने वाले कर्मचारी भी परेशान हैं. इस बारिश ने प्रशासन के नाला सफाई के दावों और जलनिकासी के इंतजामों की हकीकत सामने ला दी है।

यहां भी भारी बारिश के बाद हालात खराब हैं. शहर के तमाम क्षेत्र तालाब बन गए हैं और रोजमर्रा के काम प्रभावित हो रहे हैं. शहरी क्षेत्र के कई इलाकों में दुकानों ध्मकानों में बारिश का पानी घुस गया है।

मौसम विभाग ने अगले दो दिनों के लिए करीब 30 जिलों में जोरदार बारिश का अलर्ट जारी किया है. इनमें लखनऊ, गाजियाबाद, बाराबंकी, सुल्तानपुर, मथुरा, सीतापुर, अयोध्या, मुरादाबाद, शामली, वाराणसी, संभल, बुलंदशहर, बिजनौर, अमरोहा, गोरखपुर, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, प्रयागराज, बागपत, हापुड़, मेरठ, शाहजहांपुर, हमीरपुर, बलिया, जालौन, इटावा, ललितपुर, फर्रुखाबाद व औरैया शामिल हैं।

प्रदेश में अगले 24 घंटों के दौरान राज्य में कुछ स्थानों पर वर्षा होने का अनुमान है. वहीं, सरकार ने बारिश की संभावना को देखते हुए स्कूल कालेज आज और कल दो दिन के लिए बंद कर दिए हैं.

 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सभी मण्डलायुक्तों तथा जिलाधिकारियों को पूरी तत्परता से राहत कार्य संचालित करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने 17 व 18 सितम्बर को प्रदेश में स्कूल-कॉलेजों सहित सभी शिक्षण संस्थानों को बन्द रखने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने लोगों से सावधानी बरतने की अपील की है।

Shah Times is a Daily Newspaper & Website brings the Latest News & Breaking News Headlines from India & around the World. Read Latest News Today on Sports, Business, Health & Fitness, Bollywood & Entertainment, Blogs & Opinions from leading columnists.
View all posts

Leave a Reply