कोरोना महामारी का लोगो के जीवन पर आर्थिक प्रभाव

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

कोरोना वायरस का प्रकोप सबसे पहले 31 दिसंबर, 2019 को वुहान, चीन में हुआ था, इसके बाद से यह पूरे विश्व में फैलता चला गया। धीरे धीरे दुनिया के सारे देश इस महामारी की चपेट में आ गए। अगर इस महामारी का आर्थिक प्रभाव देखा जाये तो यह अपने आप में विकराल हैं।   इसमें ऑटोमोबाइल उद्योग, पर्यटन उद्योग, शेयर बाजार और विभिन्न कंपनियों सहित कई सेक्टर प्रभावित हो रहे हैं। ना सिर्फ आईपीएल, बल्कि देश-दुनिया के बड़े-बड़े समारोह भी टाल दिए गए हैं। 

आर्थिक मामलों पर किताबें लिखने वाले और शेयर मार्केट के एक नामी व्यापारी विजय भंबवानी ने कहा, ''इसका असर ये होगा कि अर्थव्यवस्था सिकुड़ेगी, उत्पादन कम होगा और उपभोग नीचे जाएगा। "

चर्चित किताब "बैड मनी" के लेखक और अर्थशास्त्री विवेक कौल कहते हैं कि अर्थव्यवस्था के हर क्षेत्र पर इस लहर का असर पड़ेगा, चाहे वो ऑटो सेक्टर हो, या रियल एस्टेट, या बैंकिंग, एयरलाइंस, पर्यटन या फिर मनोरंजन। कौल कहते हैं, ''सेंटर फ़ॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी" के आंकड़ों से पता चलता है कि 31 मार्च तक बेरोज़गारी 6.5 प्रतिशत थी, यह 18 अप्रैल तक 8.4 प्रतिशत तक बढ़ गई है। 

एचडीएफ़सी बैंक ने कहा कि अप्रैल 2021 में (15 अप्रैल तक) कोविड -19 के बीच चिकित्सा इमरजेंसी के कारण चेक बाउंस के मामले बढ़ गए हैं। " इसके अलावा, कई ऐसे प्रभाव होंगे जिसे आसानी से मापा नहीं जा सकता, सरकार के कर संग्रह में कमी आएगी, कंपनियां नुक़सान कम करने के लिए ख़र्च को कम करेंगी या चीज़ों के दाम बढ़ाएँगीं। 

अगर रियल एस्टेट की बात करें तो ये सेक्टर पहले से ही संकट में है लेकिन अब इसका संकट और बढ़ गया है। अब लोग घरों से काम कर रहे हैं जिसका सिलसिला जारी रहेगा, रियल एस्टेट की एक कंसल्टिंग कंपनी कुशमैन एंड वेकफ़ील्ड के अनुसार इस साल जनवरी से मार्च तक किराए पर दिए गए ऑफ़िस स्पेस का कारोबार 48 प्रतिशत घटा है। "

सर्विसेज़ उद्योग और पर्यटन क्षेत्र को अब तक सब से बड़ा झटका लगा है।अमेरिका और ब्रिटेन जैसे कई देशों ने अपने नागरिकों को भारत जाने से बचने की सलाह दी है जबकि घरेलू पर्यटन भी कोरोना के डर से घटने लगा है। 

मुंबई में एक बड़े होटल के मालिक अशोक चैनीतला ने बताया कि होटल 70-80 प्रतिशत ख़ाली हैं. उन्होंने कहा, "होटल, विशेष रूप से बड़े होटल, लक्ज़री, कन्वेंशन सेंटर, रिसॉर्ट आदि कई साल की तैयारी और मेहनत के बाद बनते हैं। हम पहले से ही बुरे हाल में थे, अब इस नई लहर ने हमारे उद्योग को चौपट कर दिया है। '' महाराष्ट्र के रेस्टोरेंट एसोसिएशन ने कुछ दिन पहले कहा कि दूसरी लहर कुछ सप्ताह तक जारी रही तो 90 प्रतिशत रेस्टोरेंट बंद हो जाएंगे। हॉस्पिटैलिटी उद्योग में पिछले साल से अब तक अगर किसी की कमाई बढ़ी है तो वो घर पर खाना डिलिवर करने वाले लोग है। इनमें जोमैटो और स्विगी सब से आगे हैं। 

इंटरनेशनल लेबर ऑर्गनाइज़ेशन ने कहा था कि कोरोना वायरस सिर्फ़ एक वैश्विक स्वास्थ्य संकट नहीं रहा, बल्कि ये एक बड़ा लेबर मार्केट और आर्थिक संकट भी बन गया है जो लोगों को बड़े पैमाने पर प्रभावित करेगा। 

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष ने बताया है कि 90 देश उससे मदद मांग रहे है।आईएलओ के अनुसार कोरोना वायरस की वजह से दुनियाभर में ढाई करोड़ नौकरियां ख़तरे में हैं। सार्वजनिक खर्च में भारी कटौती हुई है, कच्चे माल की उपलब्धता, उत्पादन और तैयार उत्पादों के वितरण की श्रृंखला प्रभावित हुई है, जिसे पुनः शुरू करने में कुछ समय लग सकता है। उदाहरण के लिये उत्पादन स्थगित होने के कारण मज़दूरों का पलायन बढ़ा है, ऐसे में कंपनियों के लिये पुनः कुशल मज़दूरों की नियुक्ति कर पूरी क्षमता के साथ उत्पादन शुरू करना एक चुनौती होगी।  खनन और उत्पादन जैसे अन्य प्राथमिक या द्वितीयक क्षेत्रों में गिरावट का प्रभाव सेवा क्षेत्र कंपनियों पर भी पड़ा है।  

“विश्व बैंक के मुख्य अर्थशास्त्री हैंस टिमर ने कहा कि इस चुनौती से निपटने के लिए भारत को सबसे पहले इस महामारी को और फैलने से रोकना होगा और साथ ही यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभी को भोजन मिल सके। लॉकडाउन का सबसे ज़्यादा असर अनौपचारिक क्षेत्र पर पड़ेगा और हमारी अर्थव्यवस्था का 50 प्रतिशत जीडीपी अनौपचारिक क्षेत्र से ही आता है। ये क्षेत्र लॉकडाउन के दौरान काम नहीं कर सकता है। वो कच्चा माल नहीं ख़रीद सकते, बनाया हुआ माल बाज़ार में नहीं बेच सकते। 

भारत को भी चाहिए कि आर्थिकी को संभालने के लिए भारत मे भी प्रतिभाशाली अर्थशास्त्रियों की एक कमेटी का गठन किया जाए, जिसमें प्रोफेशनल हों और वे भारतीय चुनौतियों के अनुसार देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए चरणबद्ध तरीके से नीतिगत समाधान सरकार के सामने रखें। 

~सैयद रिज़वान ज़ैदी ( अधिवक्ता , सुप्रीम कोर्ट ऑफ़ इंडिया )

Shah Times is a Daily Newspaper & Website brings the Latest News & Breaking News Headlines from India & around the World. Read Latest News Today on Sports, Business, Health & Fitness, Bollywood & Entertainment, Blogs & Opinions from leading columnists.
View all posts

Leave a Reply