कोरोना से नई मौतों में 10 राज्‍यों की 85.83 फीसद भागीदारी,महाराष्‍ट्र में सर्वाधिक दिल्ली का दूसरा स्‍थान

ShahTimesNews
Image Credit: ShahTimesNews

दिल्ली दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान के तहत देश में लगाए गये कोविड-19 टीकों की कुल संख्‍या आज 12 करोड़ से अधिक हो गई।

 

आज सुबह सात बजे तक की अनंतिम रिपोर्ट के अनुसार, 17,37,539 सत्रों के जरिये कुल मिलाकर 11,99,37,641 टीके लगाये जा चुके हैं। इनमें 91,05,429 एचसीडब्‍ल्‍यू है, जिन्‍होंने पहली खुराक ली है तथा 56,70,818 एचसीडब्‍ल्‍यू है, जिन्‍होंने दूसरी खुराक ली है, 1,11,44,069 एफएलडब्‍ल्‍यू (पहली खुराक), 54,08,572 (दूसरी खुराक) 60 वर्ष से अधिक आयु के 4,49,35,011 पहली खुराक के लाभार्थी तथा 34,88,257 दूसरी खुराक के लाभार्थी एवं 45 से 60 वर्ष की उम्र के 3,92,23,975 (पहली खुराक) तथा 9,61,510 (दूसरी खुराक) के लाभार्थी शामिल हैं।

 

स्वास्थ्यकर्मी

फ्रंटलाइन वर्क्रस

आयु वर्ग 45-60 वर्ष

60 वर्ष से अधिक

कुल उपलब्धि

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

 

11,99,37,641

91,05,429

56,70,818

1,11,44,069

54,08,572

3,92,23,975

9,61,510

4,49,35,011

34,88,257

 

 

 

देश में अभी तक लगाये गये कुल टीकों के 59.56 प्रतिशत में 8 राज्‍यों की भागीदारी है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001V9D9.jpg

 

पिछले 24 घंटों में कोविड के 30 लाख से अधिक टीके लगाये गये।

टीकाकरण अभियान के 91वें दिन (16 अप्रैल, 2021) 30,04,544 टीके लगाये गये। इनमें से 22,96,008 लाभार्थियों को 37,817 सत्रों में पहली खुराक के लिए टीके लगाये गये तथा 7,08,536 लाभार्थियों ने टीके की दूसरी खुराक प्राप्‍त की।

 

16 अप्रैल 2021 (91वां दिन)

स्वास्थ्यकर्मी

फ्रंटलाइन वर्कर्स

आयु वर्ग 45-60 वर्ष

60 वर्ष से अधिक

कुल लाभार्थी

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

पहली खुराक

दूसरी खुराक

22,432

36,184

8,50,545

2,55,681

7,18,862

26,375

7,04,169

3,90,296

22,96,008

7,08,536

 

भारत में दैनिक नये मामले निरंतर बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटों में 2,34,692 नये मामले दर्ज किये गये।

10 राज्‍यों महाराष्‍ट्र, उत्‍तर प्रदेश, दिल्‍ली, छत्तीसगढ, कर्नाटक, मध्‍य प्रदेश, केरल, गुजरात, तमिलनाडु और राजस्थान में कोविड के दैनिक नये मामलों में बढ़ोत्‍तरी प्रदर्शित की गई है। नये मामलों के 79.32 प्रतिशत इन्‍हीं 10 राज्‍यों से दर्ज किये गये हैं।

महाराष्‍ट्र ने 63,729 दैनिक नये मामलों के साथ सर्वाधिक संख्‍या दर्ज कराई है। 27,360 मामलों के साथ उत्‍तर प्रदेश दूसरे स्‍थान पर है, जबकि दिल्‍ली में 19,486 नये मामले दर्ज किये गये हैं।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image003PRSZ.jpg

 

16 राज्‍य, जैसा कि नीचे प्रदर्शित किया गया है, दैनिक नये मामलों में बढ़ोत्‍तरी का रुझान प्रदर्शित कर रहे हैं।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004TE4Y.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005YUMI.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0051XGB.jpg

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image006LE6R.jpg

 

भारत के कुल सक्रिय मामले 16,79,740 तक पहुंच चुके हैं। यह देश के कुल पॉजिटिव मामलों का 11.56 प्रतिशत है। पिछले 24 घंटों में कुल सक्रिय मामलों में 1,09,997 मामलों की बढ़ोत्‍तरी दर्ज की गई।

5 राज्‍यों महाराष्‍ट्र, छत्‍तीसगढ़, उत्‍तर प्रदेश, कर्नाटक और केरल में भारत के कुल सक्रिय मामलों में 65.02 प्रतिशत की भागीदारी है। देश के कुल सक्रिय मामलों में अकेले महाराष्‍ट्र की 38.09 प्रतिशत की भागीदारी है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0077OVF.jpg

 

भारत में कुल रिकवरी आज 1,26,71,220 हो गई है। राष्‍ट्रीय रिकवरी दर 87.23 प्रतिशत है।

पिछले 24 घंटों में 1,23,354 रिकवरी दर्ज की गई।

पिछले 24 घंटों में 1,341 मौतें दर्ज की गईं।

नई मौतों में 10 राज्‍यों की 85.83 प्रतिशत की भागीदारी है। महाराष्‍ट्र में सर्वाधिक (398) मौते दर्ज की गईं जबकि 141 दैनिक मौतों के साथ दिल्ली का दूसरा स्‍थान रहा।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image008GA76.jpg

पिछले 24 घंटों में 9 राज्‍यों/केन्‍द्रशासित प्रदेशों में कोविड से कोई मौत दर्ज नहीं कराई गई है। ये हैं लद्दाख (केन्‍द्रशासित प्रदेश), दमन एवं दीव तथा दादर नागर हवेली, त्रिपुरा, सिक्किम, मिजोरम, मणिपुर, लक्षद्वीप, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और अरुणाचल प्रदेश।

I think all aspiring and professional writers out there will agree when I say that ‘We are never fully satisfied with our work. We always feel that we can do better and that our best piece is yet to be written’.
View all posts

Leave a Reply