HomeHealthKnee Replacement Surgery : मेटल एलर्जी और सेंसिटिविटीज

Knee Replacement Surgery : मेटल एलर्जी और सेंसिटिविटीज

Published on

घुटना प्रत्यारोपण सर्जरी करने से पहले
डर्मेटोलॉजिकल और लेबोरेटरी टेस्टिंग ज़रूरी

क्षतिग्रस्त जोड़ों की बीमारियों के कारण जोड़ों में कार्टिलेज (उपास्थि) या कुशन का नुकसान होता है। इस समस्या से निपटने के लिए आर्थ्रोप्लास्टी नाम की प्रक्रिया अंजाम दी जाती है।

Dehli Desk

नई दिल्ली,( सफदर अली)। घुटने के आर्थ्रोप्लास्टी वाले मरीजों में मेटल संवेदनशीलता या मेटल एलर्जी आमतौर पर ज्यादा होती है। जिन मरीजों को मेटल से एलर्जी होती है, उन मरीजों की सर्जरी करने से पहले डर्मेटोलॉजिकल और लेबोरेटरी टेस्टिंग की जानी चाहिए। वर्तमान समय में किसी व्यक्ति को मेटल से अतिसंवेदनशीलता (हाइपरसेंस्टिविटी) या प्रतिक्रिया है या नहीं, इसका पता लगाने के लिए एक पैच टेस्ट किया जाता है जोकि बहुत ही कॉमन टेस्ट है। यह पैच टेस्ट मेटल अतिसंवेदनशीलता जानने के लिए उपयोग की जाने वाली सबसे आम विधि है। हालांकि इस टेस्ट में कुछ कमियां भी है। प्राइमस सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल ज्वाइंट रिप्लेसमेंट एवं आर्थोपेडिक डिपार्टमेंट के हेड डॉ सीएस यादव के मुताबिक ऑक्टोजेरियन व्यक्ति या वृद्ध व्यक्ति ज्यादातर ऑस्टियोअर्थराइटिस बीमारी से पीड़ित होते हैं। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, या मोटापा बढ़ता है, वैसे-वैसे यह बीमारी और भी गंभीर होती जाती है। क्रोनिक ऑस्टियोअर्थराइटिस के एटियोलॉजी में मेकेनिकल और बायोलॉजिकल फैक्टर्स की एक मल्टीफंक्शनल परस्पर क्रिया होती है। कोपिंग मेकेनिज्म के रूप में एडवांस ऑस्टियोआर्थराइटिस के मामलों में सर्जिकल थेरेपी की आवश्यकता होती है। डॉ सीएस यादव के अनुसार

रिसर्च से पता चला है, 10% से 15% मरीजों में मेटल की अतिसंवेदनशीलता के कारण त्वचा संबंधी लक्षण दिखाई देते हैं। निकल मेटल ज्यादातर मामलों में मेटल अतिसंवेदनशीलता प्रदर्शित करता है, जबकि कोबाल्ट, क्रोमियम, बेरिलियम, टैंटलम, टाइटेनियम और वैनेडियम मेटल से त्वचा सम्बन्धी लक्षण दिखाई देते हैं।

आर्थ्रोप्लास्टी

कई सारे कारण होते है जिनकी वजह से जोड़ों को नुकसान होता है। इन क्षतिग्रस्त जोड़ों की बीमारियों के कारण जोड़ों में कार्टिलेज (उपास्थि) या कुशन का नुकसान होता है। इस समस्या से निपटने के लिए आर्थ्रोप्लास्टी नाम की प्रक्रिया अंजाम दी जाती है। ऑस्टियोअर्थराइटिस आर्थ्रोप्लास्टी के सामान्य कारणों में से एक है। आर्थ्रोप्लास्टी एक सर्जिकल प्रक्रिया होती है जो हड्डियों को सही करती है, जिससे जोड़ो का कार्य फिर से सामान्य होता है। इस प्रक्रिया में प्रोस्थेसिस नामक एक कृत्रिम जोड़ का भी उपयोग किया जा सकता है। आर्थ्रोप्लास्टी को अगर और आसान भाषा में समझा जाए तो यह आधुनिक चिकित्सा विज्ञान के अनुसार घुटना बदलने जैसी एक प्रक्रिया है। टोटल नी आर्थ्रोप्लास्टी बेहद लाभकारी होती है। हालांकि लगभग 20% मामलों में परिणाम से मरीज संतुष्ट नहीं हो सकते हैं। असंतोष का सबसे बड़ा कारण मेटल से सम्बंधित एलर्जी या अतिसंवेदनशीलता होती है।

नए प्रोस्थेटिक्स और मेटल एलर्जी

मेटल एलर्जी के ख़तरे को कम करने के उद्देश्य से नए कृत्रिम अंग और प्रत्यारोपण विकसित किए जा रहे हैं। उदाहरण के लिए, कुछ निर्माता ज़िरकोनियम, सिरेमिक और पॉलीथीन जैसी सामग्रियों का उपयोग प्रत्यारोपण (इम्प्लांट) बनाने के लिए कर रहे हैं। इन इम्प्लांट से एलर्जी प्रतिक्रिया कम होती हैं। इसके अलावा कुछ इम्प्लांट ऐसी सामग्रियों से बने होते हैं जिनसे एलर्जी होने की संभावना कम होती है, जैसे कि हाइड्रॉक्सीपैटाइट या हीरे जैसा कार्बन। प्रोस्थेटिक्स और इम्प्लांट के लिए ये नए अविष्कार मरीजों को ज्यादा विकल्प प्रदान कर रहे हैं और किसी भी एलर्जी प्रतिक्रियाओं के ख़तरे को कम कर रहे हैं।

लक्षण

मेटल वाले जो इम्प्लांट होते हैं, उनसे एलर्जी के के लक्षण दर्द और त्वचा सम्बन्धी डर्मेटाइटिस की सूजन से लेकर आर्थ्रोप्लास्टी के सड़न रोकनेवाला ढीलापन तक हो सकता हैं। मेटल के लिए त्वचीय और सिस्टेमिक हाइपरसेंस्टिविटी (अतिसंवेदनशीलता) प्रतिक्रियाओं ने जोड़ों के आर्थ्रोप्लास्टी के बाद चिंता बढ़ा दी है, इम्प्लांट सामग्री के खिलाफ एलर्जी होना अभी भी काफी दुर्लभ है और इस तरह की एलर्जी को इम्प्लांट की विफलता के प्रमुख कारण के रूप में नहीं गिना जाता है।

मेटल अतिसंवेदनशीलता और एलर्जी के मामलों में कुछ मेटल के संपर्क के कारण चकत्ते, सूजन या दर्द जैसे लक्षण भी देखे जा सकते हैं। टॉपिकल प्रतिक्रियाओं के अलावा, मेटल अतिसंवेदनशीलता के कारण फ़िब्रोमाइल्गिया और क्रोनिक फटीग सिंड्रोम जैसी क्रोनिक बीमारियाँ हो सकती हैं।

मेटल अतिसंवेदनशीलता होने का कारण

जिस शरीर में इम्प्लांट किया जता है अगर उस शरीर का इम्यून सिस्टम बाहरी धातु आयनों को खतरे के रूप में टारगेट करना शुरू कर देता है, तो इससे मेटल अतिसंवेदनशीलता होती है। आम तौर पर कोशिकाएं सूजन पैदा करके बाहरी बैक्टीरिया और वायरस को मार देती हैं। जब वही कोशिकाएं शरीर में प्रत्यारोपित मेटल आयनों पर हमला करना शुरू कर देती हैं, तो धातु अतिसंवेदनशीलता के लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

रोजमर्रा की जिंदगी में मेटल एलर्जी होना बहुत आम है। घड़ियाँ, सिक्के और गहने आमतौर पर मेटल एलर्जी पैदा कर सकते हैं। निकल सबसे ज्यादा एलर्जी पैदा करने वाले धातुओं में से एक है। निकल प्रमुख रूप से डर्मेटाइटिस की सूजन का कारण बनता है। कोबाल्ट, कॉपर और क्रोमियम भी मेटल एलर्जी के बहुत ही सामान्य फैक्टर हैं। चिकित्सा उपकरणों में क्रोमियम और टाइटेनियम से भी मेटल एलर्जी होती है। कृत्रिम घुटने, कृत्रिम कूल्हे, पेसमेकर, स्टेंट, फ्रैक्चर प्लेट, रॉड या पिन जैसे कुछ इम्प्लांट उपकरणों में ऐसी मेटल हो सकती हैं, जिससे मेटल अतिसंवेदनशीलता या मेटल एलर्जी का कारण बन सकती हैं। जैसे-जैसे समय बीतता है वैसे-वैसे यह प्रतिक्रिया गंभीर हो जाती है। इसके अलावा जिन लोगों को पहले से ही ऑटोइम्यून डिसऑर्डर है, उनमें मेटल अतिसंवेदनशीलता होने का खतरा ज्यादा हो सकता है।

उपरोक्त कॉम्प्लिकेशन के अलावा मेटल अतिसंवेदनशीलता से जुड़ी निम्नलिखित बीमारियां हो सकती हैं:

1- क्रोनिक थकान सिंड्रोम
2- एक्जिमा
3- फाइब्रोमायल्गिया
4- ऑस्टियोमाइलाइटिस
5- रह्युमेटोइड अर्थरायटिस

मेटल अतिसंवेदनशीलता का इलाज

मेटल अतिसंवेदनशीलता का इलाज अलग-अलग लोगों में अलग-अलग तरह से होता है। इलाज प्रक्रिया एलर्जी और उनकी प्रतिक्रियाओं पर निर्भर करती है। टॉपिकल डर्मेटाइटिस धातु संवेदनशीलता को उन मेटल से बचाकरर हल किया जा सकता है जो एलर्जी प्रतिक्रिया का कारण बनते हैं। एलर्जी प्रतिक्रियाओं को कम करने के लिए कॉर्टिकोस्टेरॉइड क्रीम और मलहम का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। हालांकि इम्प्लांट के कारण होने वाली प्रतिक्रियाओं का समाधान करना ज्यादा मुश्किल होता है।

उदाहरण के लिए, अगर एलर्जी एक कृत्रिम घुटने या कूल्हे के कारण होती है, तो इलाज में आमतौर पर टॉपिकल और ओरल दोनों दवाएं दी जाती हैं। सिस्टेमेटिक मेटल एलर्जी के इलाज की प्रकृति काफी मुश्किल होती है। डॉक्टर कभी-कभी इम्प्लांट चुनने से पहले हाइपरसेंस्टिविटी टेस्ट कराने की सलाह देते हैं। इस समस्या के प्रति जागरूकता और रोकथाम प्रमुख फैक्टर हैं। अपने डॉक्टर से पूछें और अपने लिए सर्वोत्तम संभव इलाज का फैसला करने के लिए ईमानदारी से अपनी चिंताओं को उनसे साझा करें।

Knee replacement metal allergies and sensitivities……

Dermatological and laboratory testing required

Health, knee replacement surgery,Shah Times शाह टाइम्स

Latest articles

कोतवाली पुलिस ने चैकिंग के दौरान एक कार से बरामद किए 30 लाख रुपये

राजपुर रोड स्थित दिल्ली नंबर की कार को रोककर उसमे से बरामद कि नगदी इंकम...

रिलायंस शोरूम में पड़ी डकैती के वांछित को बी वारंट पर दून लाएगी पुलिस

राज्य स्थापना दिवस पर राजपुर रोड स्थित ज्वैलरी शोरूम में डाली थी 15 करोड...

दलितों की आवाज उठाने पर चंद्रशेखर आजाद को किया नजरबंद

संभल , (Shah Times ) । रामपुर में दलित युवक की हत्या के मामले...

बसपा पूर्व विधायक गुड्डू जमाली सपा में हजारों समर्थकों के साथ शामिल

लखनऊ,(Shah Times)। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने...

Latest Update

कोतवाली पुलिस ने चैकिंग के दौरान एक कार से बरामद किए 30 लाख रुपये

राजपुर रोड स्थित दिल्ली नंबर की कार को रोककर उसमे से बरामद कि नगदी इंकम...

रिलायंस शोरूम में पड़ी डकैती के वांछित को बी वारंट पर दून लाएगी पुलिस

राज्य स्थापना दिवस पर राजपुर रोड स्थित ज्वैलरी शोरूम में डाली थी 15 करोड...

दलितों की आवाज उठाने पर चंद्रशेखर आजाद को किया नजरबंद

संभल , (Shah Times ) । रामपुर में दलित युवक की हत्या के मामले...

बसपा पूर्व विधायक गुड्डू जमाली सपा में हजारों समर्थकों के साथ शामिल

लखनऊ,(Shah Times)। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने...

मासिक धर्म जागरूकता में युवाओं की भागीदारी भी ज़रूरी है

कमरुन निसा (लद्दाख) मासिक धर्म, मानव अस्तित्व का एक प्राकृतिक पहलू है, जिसे अक्सर...

यामी गौतम स्टारर “आर्टिकल 370“ इस साल की पहली हिट !

मुंबई,( Shah Times) । यामी गौतम, प्रिया मणि और वैभव तत्ववादी स्टारर आर्टिकल 370...

सैफ अली खान के पिता मंसूर अली खान पटौदी क्रिकेट को लेकर देते थे यह राय

अपने पिता मंसूर अली खान पटौदी के साथ अपनी क्रिकेट की जड़ों को दर्शाते...

चेकिंग के दौरान पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी,अफीम तस्कर गिरफ्तार

थाना बनबसा पुलिस, SOG टीम तथा SSB बनबसा टीम की संयुक्त चेकिंग के दौरान...

राशि अनुसार किस ज्योतिर्लिंग की पूजा है आपके लिए श्रेष्ठ

देवो के देव महादेव के भारत में द्वादश ज्योतिर्लिंग हैं, जिनका अपना एक विशेष...