Shah Times

HomeNationalभविष्य की चुनौतियों को देखते हुए तीनों सेनाओं के एकीकरण की प्रक्रिया...

भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए तीनों सेनाओं के एकीकरण की प्रक्रिया में तेजी जरूरी

Published on

भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल अनिल चौहान ने’परिवर्तन चिंतन’ सम्मेलन की अध्यक्षता की कार्यक्रम में तीनों सेनाओं के मुख्यालयों, सैन्य मामलों के विभाग, एकीकृत रक्षा कार्मिक मुख्यालय के अधिकारियों और चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी की विभिन्न उप-समितियों के सदस्यों ने भाग लिया।

नई दिल्ली,(Shah Times) भारत के प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल अनिल चौहान ने भविष्य की चुनौतियों को देखते हुए तीनों सेनाओं के एकीकरण की प्रक्रिया में तेजी लाने को कहा है।जनरल चौहान ने तीनों सेनाओं के एकीकरण से संबंधित मुद्दों और पहलों पर चर्चा के लिए आयोजित दो दिन के ‘परिवर्तन चिंतन’ सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए शुक्रवार को यह बात कही।कार्यक्रम में तीनों सेनाओं के मुख्यालयों, सैन्य मामलों के विभाग, एकीकृत रक्षा कार्मिक मुख्यालय के अधिकारियों और चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी (सीओएससी) की विभिन्न उप-समितियों के सदस्यों ने भाग लिया।

आज संपन्न हुए इस सम्मेलन में चीफ ऑफ स्टाफ कमेटी की विभिन्न उप-समितियों ने जनरल चौहान को सेनाओं के बीच संयुक्तता एवं एकीकरण के लिए आवश्यक गतिविधियों में प्रगति के बारे में जानकारी दी।इस महत्वपूर्ण परिवर्तन की दिशा में लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए निर्धारित कार्यक्रमों को पूरा करने के उद्देश्य से विभिन्न महत्वपूर्ण सुधारों पर गंभीरता के साथ विचार-विमर्श किया गया।प्रमुख रक्षा अध्यक्ष ने दोनों दिन विभिन्न समितियों को संबोधित कर सम्मेलन की शुरुआत की।उन्होंने पहलों की प्रगति में तेजी लाने की आवश्यकता पर बल दिया क्योंकि ये थियेटराईजेशन का मार्ग प्रशस्त करेंगे और सक्षम भारतीय सशस्त्र बलों का निर्माण करेंगे।उन्होंने तीनों सेनाओं के एकीकरण की प्रक्रिया में तेजी लाने को भी कहा।

जनरल चौहान ने विश्वास व्यक्त किया कि इस तरह के विचार-मंथन से सशस्त्र बलों को बहु-क्षेत्रीय संचालन में सक्षम एक थिएटर बल के रूप में विकसित होने में मदद मिलेगी और हमारी क्षेत्रीय अखंडता और राष्ट्रीय संप्रभुता की रक्षा करने के संकल्प और क्षमता को मजबूत किया जा सकेगा।

Latest articles

ऐसी कौन सी वज़ह है राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत पर गम की जगह कुछ लोग खुशियां मना रहे हैं

राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत पर भारत और अमेरिकी सहित कई देशों ने शौक...

तेहरान में लोगों ने मरहूम राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को आख़री अलविदा किया

ईरान की ऑफिशियल समाचार एजेंसी आईआरएनए ने सोमवार को इब्राहिम रईसी, अमीर-अब्दुल्लाहियान, पूर्वी अजरबैजान...

तख्तापलट की नाकाम कोशिश के बाद होगा संसदीय नेतृत्व का चुनाव

संयुक्त राष्ट्र की मानवीय एजेंसी ने कहा कि डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में जमीन...

चारधाम यात्रा पर आये 11 सदस्यीय दल का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन निकला फर्जी

सीएम के निर्देश, सभी अधिकारी फील्ड पर करे कार्य, का मिलने लगा  सकारात्मक परिणाम वरिष्ठ...

Latest Update

ऐसी कौन सी वज़ह है राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत पर गम की जगह कुछ लोग खुशियां मना रहे हैं

राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी की मौत पर भारत और अमेरिकी सहित कई देशों ने शौक...

तेहरान में लोगों ने मरहूम राष्ट्रपति इब्राहिम रईसी को आख़री अलविदा किया

ईरान की ऑफिशियल समाचार एजेंसी आईआरएनए ने सोमवार को इब्राहिम रईसी, अमीर-अब्दुल्लाहियान, पूर्वी अजरबैजान...

तख्तापलट की नाकाम कोशिश के बाद होगा संसदीय नेतृत्व का चुनाव

संयुक्त राष्ट्र की मानवीय एजेंसी ने कहा कि डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में जमीन...

चारधाम यात्रा पर आये 11 सदस्यीय दल का ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन निकला फर्जी

सीएम के निर्देश, सभी अधिकारी फील्ड पर करे कार्य, का मिलने लगा  सकारात्मक परिणाम वरिष्ठ...

नफरत की ताकतों के ताबूत पर आखिरी कील ठोंकेगा यूपी

बुद्ध की नगरी- सिद्धार्थ नगर में आज कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव एवं उत्तर प्रदेश...

प्रदेश कांग्रेस ने राजीव गाँधी को लेकर क्या कहा और क्यों

उत्तर प्रदेश कांग्रेस ने पार्टी मुख्यालय पर भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री स्व राजीव गांधी...

सुप्रीम कोर्ट ने धारा 370 के फैसले की समीक्षा की मांग वाली याचिकाएं की ख़ारिज 

जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन अधिनियम की संवैधानिकता पर फैसला देने से परहेज किया और जम्मू-कश्मीर की...

दिल्ली एनसीआर में धीरे-धीरे बढ़ रही है विला मालिक बनने की चाह, भारी डिमांड की यह है बड़ी वजह

भारत के लक्जरी रियल एस्टेट बाजार में 50 करोड़ रुपये और उससे अधिक कीमत...

धंस सकते हैं भारत के शहर

गर्भ जल की निकासी के ख़तरनाक परिणाम होंगे। नेचर की डिक्शनरी में क्षमा नाम...
error: Content is protected !!