चंडीगढ़ पर हिमाचल के अधिकार के लिए हर संभव लड़ाई लड़ेगी कांग्रेस

ऊना। हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के उपमुख्यमंत्री मुकेश अग्निहोत्री ने रविवार को कहा कि कांग्रेस पंजाब पुनर्गठन अधिनियम के तहत चंडीगढ़ (Chandigarh) पर राज्य का दावा मांगने के लिए पूरी तरह तैयार है।
अग्निहोत्री ने कहा,“पंजाब द्वारा चंडीगढ़ पर अपना अधिकार जताने पर हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन जब चंडीगढ़ का गठन हुआ तो कहा गया कि इसका 7.19 प्रतिशत हिस्सा हिमाचल का है। हम यह अधिकार लेकर रहेंगे।”

उन्होंने कहा कि शानन परियोजना की लीज समाप्त होने वाली है, इसलिए इसे हिमाचल स्थानांतरित करना होगा। उन्होंने कहा,“हम राज्य का हक लेने के लिए हर संभव लड़ाई लड़ेंगे। इसके लिए वरिष्ठ मंत्री चंद्र कुमार के नेतृत्व में एक कैबिनेट कमेटी का गठन किया गया है। यह कमेटी अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और उसके बाद हम आगे की कार्रवाई करेंगे।”
उन्होंने एक बयान में आशा व्यक्त की कि पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव में राज्य की सभी चार लोकसभा सीटें जीतने और लोगों की मदद और समर्थन से केंद्र में अपनी सरकार बनाने के लिए तैयार है। अग्निहोत्री ने कहा कि राज्य के लोग कांग्रेस के पक्ष में मतदान करेंगे क्योंकि केवल उनकी पार्टी ही जनता के लिए काम करने और उनके हित में निर्णय लेने में सक्षम है।

दैनिक शाह टाइम्स के ई-पेपर पढने के लिए लिंक पर क्लिक करें


उन्होंने कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू उचित समय पर मंत्रिमंडल विस्तार पर निर्णय लेंगे और दावा किया कि पार्टी में सर्वसम्मति है।
उपमुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार हिमाचल के मुद्दों को पड़ोसी राज्यों के साथ उठा रही है क्योंकि वह मुद्दों को गंभीरता से हल करना चाहती है। कई वर्षों से मुद्दों का समाधान नहीं हुआ है।
उन्होंने कहा कि सरकार आर्थिक संसाधन बढ़ाना चाहती है, इसलिए जल उपकर लगाया गया है। उन्होंने कहा,“केंद्र ने हिमाचल को बीबीएमबी से पानी उठाने के लिए एनओसी की शर्त खत्म कर दी है। ये एक अच्छा फैसला है. अब हम अपना पानी अपने उपयोग के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।”

#ShahTimes

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here