Shah Times

HomeBollywoodअशोक कुमार ने बेमिसाल अभिनय से छह दशक तक दर्शको के दिलों...

अशोक कुमार ने बेमिसाल अभिनय से छह दशक तक दर्शको के दिलों पर राज किया

Published on

पुण्यतिथि 1 के अवसर पर खास

मुंबई। बॉलीवुड में अशोक कुमार (Ashok kumar) को ऐसे सदाबहार अभिनेता के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने अपने बेमिसाल अभिनय से करीब छह दशक तक दर्शको के दिलों पर राज किया।

हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री मे दादा मुनि के नाम से मशहूर कुमुद कुमार गांगुली (Kumud Kumar Ganguly) उर्प अशोक कुमार (Ashok kumar) का जन्म बिहार के भागलपुर शहर में 13 अक्तूबर 1911 को एक मध्यम वर्गीय बंगाली परिवार में हुआ था। अशोक कुमार (Ashok kumar) ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा खंडवा शहर से पूरी की। इसके बाद उन्होंने अपनी स्नातक की पढ़ाई इलाहाबाद यूनिर्वसिटी से पूरी की जहां उनकी दोस्ती शशाधर मुखर्जी से हो गयी जो उन्हीं के साथ पढ़ा करते थे। इसके बाद अपनी दोस्ती को रिश्ते मे बदलते हुए अशोक कुमार ने अपनी इकलौती बहन की शादी शशाधर से कर दी।

1934 में न्यू थियेटर मे बतौर लैबेरोटिरी असिटेंट काम कर रहे अशोक कुमार को बॉम्बे टॉकीज में काम कर रहे उनके बहनोई शशाधार मुखर्जी ने अपने पास बुला लिया।

1936 मे बॉम्बे टॉकीज (Bombay Talkies) की फिल्म ‘जीवन नैया’ के निर्माण के दौरान फिल्म के मुख्य अभिनेता बीमार पड़ गए। इस विकट परिस्थति मे बॉम्बे टॉकीज (Bombay Talkies) के मालिक हिमांशु राय (Himanshu Rai) का ध्यान अशोक कुमार (Ashok kumar) पर गया और उन्होंने अशोक कुमार (Ashok kumar) से फिल्म में बतौर अभिनेता काम करने की गुजारिश की। इसके साथ हीं ‘जीवन नैया’ से अशोक कुमार (Ashok kumar) का बतौर अभिनेता फिल्मी सपर शुरू हो गया।

1939 में प्रदर्शित फिल्म ‘कंगन’, ‘बंधन’ और ‘झूला’ में अशोक कुमार (Ashok kumar) ने लीला चिटनिश के साथ काम किया। इन फिल्मों में उनके अभिनय को दर्शकों द्वारा काफी सराहा गया इसके साथ हीं फिल्मों की कामयाबी के बाद अशोक कुमार (Ashok kumar) बतौर अभिनेता फिल्म इंडस्ट्री मे स्थापित हो गए।

1943 हिमांशु राय की मौत के बाद अशोक कुमार (Ashok kumar) बॉम्बे टॉकीज (Bombay Talkies) को छोड़ फिल्मीस्तान स्टूडियों (Filmistan Studios) चले गए। हिंदी फिल्म इंडस्ट्री (Film industry) में सर्वाधिक कामयाब फिल्मों में बॉन्बे टॉकीज की 1943 में निर्मित फिल्म ‘किस्मत’ में अशोक कुमार (Ashok kumar) ने एंट्री हीरो की भूमिका निभायी थी। इस फिल्म ने कलकत्ता के चित्रा थियेटर सिनेमा हॉल में लगातार 196 सप्ताह तक चलने का रिकॉर्ड बनाया।

1947 में देविका रानी के बॉम्बे टॉकीज छोड़ देने के बाद बतौर प्रोडक्शन चीफ बॉम्बे टॉकीज के बैनर तले उन्होंने ‘मशाल’, ‘जिद्वी’ और ‘मजबूर’ जैसी कई फिल्मों का निर्माण किया।

पचास के दशक मे बॉम्बे टॉकीज से अलग होने के बाद उन्होंने अपनी खुद की प्रोडक्शन कंपनी शुरू की इसके साथ हीं उन्होंने जूपिटर थियेटर भी खरीदा। अशोक कुमार (Ashok kumar) प्रोडक्शन के बैनर तले उन्होंने सबसे पहले समाज का निर्माण किया लेकिन यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह नकार दी गयी। इसके बाद उन्होनें अपने बैनर तले फिल्म ‘परिणीता’ का भी निर्माण किया। लगभग तीन साल के बाद फिल्म निर्माण क्षेत्र मे घाटा होने के कारण उन्होंने अशोक कुमार प्रोडक्शन कंपनी बंद कर दी।

व्हाट्सएप पर शाह टाइम्स चैनल को फॉलो करें

1953 मे प्रदर्शित फिल्म ‘परिणीता’ के निर्माण के दौरान फिल्म के निर्देशक बिमल राय के साथ उनकी अनबन बन हो गयी। इसके बाद अशोक कुमार (Ashok kumar) ने बिमल राय के साथ काम करना बंद कर दिया। लेकिन अभिनेत्री नूतन के कहने पर अशोक कुमार (Ashok kumar) ने एक बार फिर बिमल राय के साथ साल 1963 में प्रदर्शित फिल्म ‘बंदिनी’ मे काम किया और यह फिल्म हिन्दी फिल्म इतिहास की क्लासिक फिल्मों मे शुमार की जाती है। अभिनय में एकरपता से बचने और स्वंय को चरित्र अभिनेता के रूप मे भी स्थापित करने के लिए अशोक कुमार (Ashok kumar) ने अपने को विभिन्न भूमिकाओं में पेश किया।

1958 में प्रदर्शित फिल्म ‘चलती का नाम गाड़ी’ में उनके अभिनय के नए आयाम दर्शकों को देखने को मिले। हास्य से भरपूर इस फिल्म में अशोक कुमार (Ashok kumar) के अभिनय को देख दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए।

1968 मे प्रदर्शित फिल्म ‘आर्शीवाद’ में अपने बेमिसाल अभिनय के लिए वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किए गए। इस फिल्म में उनका गाया गाना ‘रेल गाड़ी रेल गाड़ी’ बच्चों के बीच काफी लोकप्रिय हुआ। इसके बाद साल 1967 में प्रदर्शित फिल्म ‘ज्वैलथीफ’ में उनके अभिनय का नया रूप दर्शकों को देखने को मिला। इस फिल्म मे वह अपने सिने करियर मे पहली खलनायक की भूमिका में दिखाई दिए। इस फिल्म के जरिये भी उन्होंने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया।

1984 मे दूरदर्शन के इतिहास के पहले सोप ऑपेरा ‘हमलोग’ में वह सीरियल के सूत्रधार की भूमिका में दिखाई दिए और छोटे पर्दे पर भी उन्होंने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया। दूरदर्शन के लिए ही अशोक कुमार (Ashok kumar) ने भीमभवानी, बहादुर शाह जफर और उजाले की ओर जैसे सीरियल मे भी अपने अभिनय का जौहर दिखाया।

अशोक कुमार (Ashok kumar) को मिले सम्मान की चर्चा की जाये तो वह दो बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किए गए हैं। 1988 में हिन्दी सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के अवॉर्ड से भी अशोक कुमार (Ashok kumar) सम्मानित किए गए। लगभग छह दशक तक अपने बेमिसाल अभिनय से दर्शको के दिल पर राज करने वाले अशोक कुमार (Ashok kumar) 10 दिसंबर 2001 को सदा के लिए अलविदा कह गए।

#ShahTimes

Latest articles

Latest Update

लोकसभा 6 मुरादाबाद से भाजपा प्रत्याशी कुँवर सर्वेश सिंह के निधन की खबर से हर कोई स्तब्ध

मुरादाबाद,(Shah Times) । लोकसभा 6 मुरादाबाद से भारतीय जनता पार्टी से प्रत्याशी और पूर्व...

अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी का जवाब वोट से

नई दिल्ली/सफदर अली,(Shah Times)। आज रात 8 बजे दिल्ली में हैदराबाद सनशाइन और देल्ही...

यूपी बोर्ड हाईस्कूल और इंटरमीडिएट एग्जाम में लड़कियों का दबदबा

उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड एग्जाम के रिज़ल्ट...

अमेरिका ने पाकिस्तान को कथित आपूर्ति करने वाली तीन विदेशी संस्थाओं पर क्यों लगाया बैन ?

अमेरिका विदेश विभाग के प्रवक्ता मैथ्यू मिलर ने कहा कि यह प्रतिबंध बेलारूस स्थित...

सड़क हादसे में गठबंधन प्रत्याशी चंदन चौहान के तीन समर्थकों की मौत

मरने वालों में बीजेपी आरएलडी गठबंधन प्रत्याशी चंदन चौहान का व्यक्तिगत फोटोग्राफर बताया जा...

पुलिस ने राष्ट्रीय किसान यूनियन नेताओं को किया घर में हाउस अरेस्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ज्ञापन सौंपने की घोषणा की थी गजरौला/अमरोहा, चेतन रामकिशन (Shah Times)।...

सिंघु बॉर्डर से हटाए जा रहे सीमेंट बेरिकेडस 

हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर पिछले काफी समय से किसान आंदोलन पर बैठे हैं। नई...

गंगा में नहाते हुए डूबे दो युवक

मुनि की रेती क्षेत्र कौड़ियाला और पांडव पत्थर पर हादसाएसडीआरएफ की सर्चिंग में नहीं...

जनता के सवालों पर क्यों मौन हैं प्रधानमंत्री ?

आज मोदी जी मोहम्मद शामी की तारीफ भरे मंच से कर रहे हैं जबकि...
error: Content is protected !!